अधिकारी अपने पुराने अड्डे तोड़े, दूसरे किसानों को भी दे प्राथमिकता – राज्य किसान आयोग अध्यक्ष

उत्तराखंड राज्य किसान आयोग के अध्यक्ष राकेश राजपूत की अध्यक्षता में 1 अप्रैल 2022 को हरिद्वार विकास भवन में कृषि विभाग की बैठक हुई । जिसका शुभारंभ मुख्य कृषि अधिकारी विजय देवराड़ी द्वारा आयोग अध्यक्ष को पुष्प गुलदस्ता देकर किया गया जिसमें किसानों की समस्या के समाधान के साथ योजनाओं का लाभ किसान को प्राप्त हो ऐसे विषयों पर चर्चा हुई । जिसमे मुख्य कृषि अधिकारी द्वारा विषयो की जानकारी दी गयी । आयोग के अध्यक्ष राकेश राजपूत ने कृषि में उपयोग होने वाली दवाईयों की गुणवत्ता और कीमत के विषय में अधिकारियों को ध्यान केंद्रित करने को कहा कि खेती में उपयोग होने वाली कुछ पेस्टिसाइड्स की अंकित मूल्य वास्तविक मूल्य से भिन्न होती है इसपर कोई कार्ययोजना बनाये ।

पशुपालन संबधित योजनाओ के साथ पशु बीमा और पशु बीमा क्लैम के विषय मे आयोग के अध्यक्ष ने बैठक में स्वयं के साथ हुई घटना का जिक्र किया कि कैसे पशु बीमा कराते समय योजना के लाभ बताते है लेकिन किसान को योजना लाभ लेने में कई कठिनाई का सामना करना पड़ता है, और पशुधन पर लोन प्राप्त करने में होने वाली परेशानियों का जिक्र किया साथ ही किसान को पशु बीमा के क्लेम में हो रही समस्यायों को लेकर अधिकारियों को 5 अप्रैल तक जांच करके आगे सौपने के लिए कहा और अध्यक्ष ने कहा कि यदि स्वतः जांच करके नही सौपी तो आयोग इसके आगे की कार्यवाही स्वयं करेगा, बता दे 5 अप्रैल को उत्तराखंड किसान आयोग की बोर्ड बैठक है जिसकी अधिसूचना जारी हो चुकी है । हरिद्वार जनपद में हुई इस बैठक में गन्ना किसानों की शिकायतों व गन्ना तौल मे गड़बडी, गन्ना समितियों की स्तिथि का विषय भी लिया गया जिसमें मुख्य बात यह है कि किसानों ने गन्ना तौल में हो रही 3 से 5% कट की बात कही जिसपर अध्यक्ष ने अधिकारियों को कार्यवाही के निर्देश दिए और गन्ना समितियों में किसानों को आवश्यक सुविधा उपलब्ध होने की जानकारी ली, वही सिंचाई के विषय मे सिचाई सुबिधा के लिए नालो की सफाई के साथ पानी की उपलब्धता के लिए अधिकारियों को कहा गया और सोलर एनर्जी से सिंचाई की योजनाओं का लाभ किसान को मिले और योजना की जानकारी आम किसान को मिले जिससे वह लाभ प्राप्त कर सके इसी के साथ जो अधिकारी क्षेत्र में योजनाओं की जानकारी सीमित किसानों को या अपने पहचान के किसानों मात्र को देते है ऐसे अधिकारियों के संदर्भ में राजपूत जी ने अधिकारियों को निर्देशित किया कि अधिकारी पुराने अड्डे तोड़े, दूसरे किसानों को भी प्राथमिकता दे, जिससे योजनाओं का लाभ सभी को हो ।

मत्स्य पालन की योजना कि विस्तरित जानकारी अधिकारी द्वारा बैठक में रखी जिसमे प्रति हेक्टेयर तालाब बनाने में आने वाले खर्चे सहित होने वाले उत्पादन की बात कही और मछली पालन में तकनीक की उपयोगिता और प्रशिक्षण पर चर्चा हुई,
कृषि विभाग की इस बैठक में डेरी से संबंधित योजना के साथ अन्य विषयों के साथ उपस्थित किसानों की समस्याओं पर विभागीय अधिकारियों को आयोग अध्यक्ष ने निर्देशित किया ।

बैठक में मुख्य कृषि अधिकारी विजय देवराड़ी और विभागीय अधिकारियों के साथ सतेंद्र चौहान, राजीव शर्मा, ऋषिपाल चौहान, पतिराम, नरेंदर सैनी, ऋषिपाल सिंह, नरेंद्र सिंह, नीतीश सैनी, मांगेराम सैनी व अन्य किसान भी उपस्थित थे ।

error: Content is protected !!