श्री राम दल उत्तराखण्ड व विश्व दलित परिषद ने एक संयुक्त प्रेस कॉन्फ्रेंस होटल दीप रेजिडेंसी रामनगर चौक रूड़की में की ।

Getting your Trinity Audio player ready...

भारत माता की जय ।।

स्वतन्त्र सैनी

प्रदेश अध्यक्ष

त्रांक :

०२/

।। जय श्री राम

श्री राम दल *

उत्तराखण्ड

निवास :

रामधाम कॉलोनी, औद्योगिक क्षेत्र

बहादराबाद, हरिद्वार (उत्तराखण्ड)

मोबाइल- 9634889265

दिनाँक 02/9/22

आज दिनांक 02.09.2022 को श्री राम दल उत्तराखण्ड व विश्व दलित परिषद ने एक संयुक्त प्रेस कॉन्फ्रेंस होटल दीप रेजिडेंसी रामनगर चौक रूड़की करते हुये एक विशेष मुद्दे को उठाते हुए श्री राम दल उत्तराखण्ड के प्रदेश अध्यक्ष स्वतन्त्र सैनी ने कहा की मु० अनीस पुत्र मु० हनीफ निवासी ग्राम-नगला कुब्डा, थाना झबरेडा, तहसील रूडकी जिला-हरिद्वार की पहली पत्नी बिलकिस जहाँ है तथा मु० अनीस ने विमला देवी, जो जाति से अनुसूचित जाति (शिल्पकार) थी से भी धर्म परिवर्तन कर निकाह कर रखा है। मुस्लिम धर्म ग्रहण करने के बाद निकाह करने के बाद विमला देवी से नाम बदल कर आईशा प्रवीन है।

जो मु० अनीस ने अपनी परिवार रजि० की नकल में विमला देवी उर्फ आईशा को अपनी पत्नी निकाह नामा के तहत दर्शाई है। मु० अनीस ने अपनी पत्नी विमला देवी उर्फ आईशा का परिवार रजिस्टर की नकल में कुछ अधिकारियो के साथ सांठगांठ कर फर्जीअनुसूचित जाति का प्रमाण पत्र बनवा कर चुनाव लड चुका है। तथा प्रशासन तथा साधारण जनता की आँखो में धूल झोक चुका है। मो० अनीस जैसे लोग हिन्दू लडकियों को बेवकूफ बनाकर धर्म परिवर्तन कराते है। तथा अपने फायदे के लिए इस्तेमाल करते रहें और लब जिहाद को बढावा दे रहे है।जिसको श्री राम दल उत्तराखण्ड कतेई बर्दाशत नहीं करेगा अगर जल्दी हीविमला देवी उर्फ आईशा प्रवीन का फर्जी अनुसूचित जाति का प्रमाण पत्र निरस्त नहीं कया जाता तो श्री राम दल हिन्दू धर्म के लोग को साथ ले कर शासन व प्रशासन के विरूद्ध आंदोलन करने को मजबूर हो जायेगें।विश्व दलित परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष भूपेन्द्र सिंह जी ने कहा की कॉन्स्टिटयूशन (शेडयूल कास्ट) आर्डर 1950 के पैरा 03 में उल्लेख है कि ऐसा कोई व्यक्ति जो हिन्दू, सिक्ख व बौद्ध को मानने वाला है। वही अनुसूचित जाति का सदस्य हो सकता है। धर्म परिवर्तन करने पर (हिन्दू, सिक्ख व बौद्ध धर्म छोडने पर) वह अनुसूचित जाति का सदस्य नहीं रह सकता है। गृह मंत्रालय भारत सरकार के परिपत्र संख्या 35/1/72-RU (SCT.V) New Delhi दिनांक 02-07-1975 के द्वारा भी अनुसूचित जाति /अनुसूचित जनजाति के जाति प्रमाण का जारी करने से पूर्व उसका वास्तविक सत्यापन किया जाये तथा परिपत्र के पैरा 04 के सव पैरा 02 में अंकित किया गया कि यदि कोई अनुसूचित जाति की महिला हिन्दू, सिक्ख व बौद्ध धर्म के अतिरिक्त शादी करती है। शादी करने के बाद उसका अनुसूचित जाति का स्टेटस समाप्त हो जायेगा भूपेन्द्र सिंह जी ने कहा कॉस्टीट्यूशन (शेडयूल्ड कास्टस) आर्डर 1950 की पैरा 03 के तहत आईशा प्रवीन का उपरोक्त को जारी अनुसूचित जाति का प्रमाण पत्र निरस्त किया जाये और जिन अधिकारियो ने ये फर्जी प्रमाण पत्र जारी किया है तथा मो० अनीस वउसकी पत्नी आईशा प्रवीन के विरूद्ध कड़ी कार्यवाही की जाये साथ-साथ हमसरकार से मांग करते है कि मो0 अनीस जिस विभाग में कार्यरत है। निलंबित कर जांच बिठाई जाए।प्रेस करने में भूपेन्द्र सिंह राष्ट्रीय अध्यक्ष विश्व दलित परिषद स्वतन्त्र सैनी प्रदेश अध्यक्ष श्री राम दल, राकेश कश्यप प्रदेश महामंत्री, श्री राम दल उत्तराखण्ड, लोकेश कश्यप प्रदेश उपाध्यक्ष श्री राम दल उत्तराखण्ड, अनुप पाल जिला अध्यक्ष श्री राम दल हरिद्वार, शेखर सैनी जिला उपाध्यक्ष श्री राम दल

हरिद्वार।

error: Content is protected !!