Getting your Trinity Audio player ready...

शहीद भगतसिंह ब्रिगेड वैलफेयर सोसायटी रुड़की द्वारा सत्यनारायण धर्मशाला में काकोरी के वीर शहीदों को श्रद्धांजलि दी गई। संस्था के अध्यक्ष गौरव कुमार ने कहा कि काकोरी काण्ड को आज 97 साल हो चुके हैं, यह वो दिन है जब क्रांतिकारियों ने सोच लिया था की अब जंग आमने सामने की ओर सीधी लड़ी जाएगी। इस दिन क्रांतिकारियों ने पैर के तलवों से निकलकर गोरों के मुंह पर जोरदार तमाचा मारा था और इस कांड ने ब्रिटिश हुकूमत की जड़ों को हिला कर रख दिया था। इस योजना में 30 लोग सम्मलित थे।

जिसमे मुख्य 10 थे राम प्रशाद बिस्मिल, चंद्र शेखर आजाद, ठाकुर रोशन सिंह, अशफाक उल्लाह खान, राजेन्द्र नाथ लाहड़ी, मन्मथ नाथ गुप्त, सचिंद्र नाथ सानियाल, राम दुलारे त्रिवेदी, प्रेम कृष्ण खन्ना, गोविंद शरणकार जी थे। 1947की क्रांति की शुरुआत सही मायने में यहीं से हुई थी। जिसकी योजना बिस्मिल जी के घर सहारनपुर में बनाई गई थी। इस कांड के बाद सारा देश धीरे धीरे गोरों से आजादी लेने के लिए खड़ा हो गया था। आज ब्रिगेड द्वारा इन वीरों को याद किया गया और प्रोग्राम में सुशील पुंडीर, राजीव चौधरी, प्रशांत अग्रवाल, विनोद, अखिलेश आदि उपस्थित रहे।

समर्थ भारत न्यूज़
समर्थ भारत न्यूज
error: Content is protected !!