धर्मनगरी में कांवड़ यात्रियों का आंकड़ा सवा करोड़ को पार कर चुका है। हर तरफ डाक कांवड़ के वाहनों की कतारें हैं।

Getting your Trinity Audio player ready...

26 जुलाई तक डाक के बड़े वाहन और बाइकर्स कांवड़ यात्री हर तरफ नजर आएंगे। शनिवार को कांवड़ मेले के 10वें दिन 65 लाख कांवड़ यात्री गंगाजल लेकर अपने घरों के लिए रवाना हुए।

डाक कांवड़ यात्रियों का हुजूम उमड़ा

श्रावण मास की कांवड़ यात्रा में शनिवार से डाक कांवड़ यात्रियों का हुजूम उमड़ गया है। दिल्ली हाईवे पर डाक कांवड़ का सबसे अधिक दबाव है। जैसे-जैसे डाक कांवड़ की संख्या बढ़ रही है, वैसे-वैसे जगह कम पड़ती नजर आ रही हैं। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक डा. योगेंद्र सिंह रावत के नेतृत्व में जिले भर की पुलिस चप्पे-चप्पे पर व्यवस्था को सुचारू बनाने में जुटी है।

दो करोड़ से अधिक यात्रियों के पहुंचने का अनुमान

आने वाले दो दिन में दो करोड़ से अधिक कांवड़ यात्रियों के हरिद्वार पहुंचने का अनुमान लगाया जा रहा है। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक डा. योगेंद्र सिंह रावत ने बताया कि शनिवार को 65 लाख कांवड़ यात्री जल भरकर रवाना हुए, जबकि अभी तक 2 करोड़ 28 लाख 70 हजार कांवड़ यात्री रवाना हो चुके हैं।

कांवड़ पटरी पर सन्नाटा, बाईपास पर बढ़ने लगी कांवड़ यात्रियों की भीड़

रुड़की शहर में अब कांवड़ पटरी पर यात्रियों की संख्या कम होने लगी है। वहीं, हरिद्वार बाईपास मार्ग पर लगातार यात्रियों की बढ़ती संख्या से स्थानीय निवासियों को आवागमन में परेशानी हो रही है। शनिवार रात से बाईपास पर डाक कांवड़ यात्रियों की संख्या भी बढ़ जाएगी। इस बार प्रशासन ने तय किया था कि कांवड़ यात्री कांवड़ पटरी से होकर ही जाएंगे।

बड़ी कांवड़ एवं डाक कांवड़ को ही राजमार्ग के बाईपास से होकर निकाला जाएगा। लेकिन, पहले ही चरण में पैदल कांवड़ यात्री बाईपास मार्ग से चलना शुरू हो गए। शनिवार को रुड़की में कांवड़ पटरी पर कम संख्या में ही कांवड़ यात्री पहुंचे।

स्थिति यह है कि दिल्ली व अन्य राज्यों से डाक कांवड़ यात्रियों के वाहन हरिद्वार की ओर कूच कर रहे हैं। इन वाहनों को वाया लक्सर होकर भेजा जा रहा है। पहली बार ऐसा हो रहा है जब डाक कांवड़ रुड़की शहार से बेहद कम संख्या में होकर गुजरेगी।

error: Content is protected !!