शहीद भगत सिंह बिग्रेड वेलफेयर सोसायटी रुड़की द्वारा सत्यनारायण धर्मशाला में छत्रपति शिवाजी महाराज जी की पुण्य तिथि पर पुष्प अर्पित कर के श्रद्धांजलि दी गई।

शहीद भगत सिंह बिग्रेड वेलफेयर सोसायटी रुड़की द्वारा सत्यनारायण धर्मशाला में छत्रपति शिवाजी महाराज जी की पुण्य तिथि पर पुष्प अर्पित कर के श्रद्धांजलि दी गई। संस्था के अध्यक्ष गौरव कुमार ने कहा कि छत्रपति शिवाजी महाराज के योगदान को देश भूल रहा है, यह हमारे लिए शर्म की बात है, उन्होंने अकेले ही अपने दम पर मुगल सल्तनत को चुनौती दी थी, १३ वर्ष की उम्र में उन्होंने बीजापुर के शासक आदिल शाह के आगे सिर झुकाने को माना कर दिया था। और उसके बाद आदिलशाह, अफजल खान, इनायत खान, शाहिस्ता खान, कलतल्फ खान को मार कर और औरंगजेब को नाकों चने चबवा कर हर हर महादेव के जयकारे के साथ देश में हिंदवी स्वराज की स्थापना की। सुशील पुंडीर और प्रभाकर पंत और सतनाम जी ने कहा की अपने जीवन काल में उन्होंने ३५० से ज्यादा लड़ाइयां लड़ी, और अगर किसी भी महिला पर अत्याचार होता तो उनके आदेश पर दोनो हाथ और दोनों पैर काटने के आदेश थे। उनके जीवनकाल में देश के अधिकतर क्षेत्रों में फिर से राम राज्य जैसा माहौल बन गया था।  

 इस अवसर पर प्रभाकर पंत, सुधांशु वत्स, विनोद गुप्ता, राजकुमार शर्मा, किशोर जुएल, बहुगुणा जी, अखिलेश, सतनाम सिंह, गौरव कुमार, सुशील पुंडीर, दिपेश भारद्वाज, अमनदीप सिंह, भूपेंदर सिंह, गौरव अरोड़ा, अनूप बंसल, आदि उपस्थित रहे।

समर्थ भारत न्यूज़
समर्थ भारत न्यूज
error: Content is protected !!